Friday, October 7, 2022
Home अंतर्राष्ट्रीय आत्मघाती हमले में तालिबान का टॉप कमांडर रहीमुल्ला हक्कानी मारा गया, आईएसआईएस...

आत्मघाती हमले में तालिबान का टॉप कमांडर रहीमुल्ला हक्कानी मारा गया, आईएसआईएस के खिलाफ काफी मुखर था रहीमुल्ला

काबुल। काबुल के एक मदरसे में हुए आत्मघाती हमले में तालिबान का टॉप कमांडर रहीमुल्ला हक्कानी मारा गया है। रहीमुल्ला तालिबान के आतंकी विचारधारा का कट्टर समर्थक होने के साथ इस्लामी विद्वान भी था। इस हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी भी संगठन ने नहीं ली है। हालांकि, तालिबान सूत्रों का कहना है कि इसके पीछे रेजिस्टेंस फोर्स या इस्लामिक स्टेट का हाथ हो सकता है। तालिबान की स्पेशल पुलिस ने मामले की जांच भी शुरू कर दी है। रहीमुल्ला हक्कानी को अफगानिस्तान के वर्तमान गृहमंत्री और हक्कानी नेटवर्क के सरगना सिराजुद्दीन हक्कानी का वैचारिक गुरु माना जाता है। रहीमुल्ला को सोशल मीडिया पर तालिबान का चेहरा भी माना जाता था। एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इस आतंकी के लाखों फॉलोअर्स हैं।

रहीमुल्ला पर पहले भी हो चुके हैं हमले
रहीमुल्ला हक्कानी पाकिस्तान की सीमा से लगे नंगरहार प्रांत के पचिर अव आगम जिले का एक अफगान नागरिक था। हदीस साहित्य के विद्वान कहे जाने वाले हक्कानी ने स्वाबी और अकोरा खट्टक के देवबंदी मदरसों में अपनी धार्मिक शिक्षा प्राप्त की। रहीमुल्ला हक्कानी को मारने के लिए यह तीसरा हमला था। इससे पहले अक्टूबर 2020 में भी रहीमुल्ला को निशाना बनाया गया था, जिसमें वह बाल-बाल बच गया। 2013 में पेशावर के रिंग रोड पर उसके काफिले पर बंदूकधारियों ने अंधाधुंध फायरिंग की थी। उस समय पाकिस्तान पुलिस और सेना के तत्काल जवाबी कार्रवाई से हमलावर भाग गए और रहीमुल्ला की जान बच गई थी।

रहीमुल्ला ने पाकिस्तान में खोला था मदरसा
शेख रहीमुल्ला हक्कानी नंगरहार प्रांत में तालिबान सैन्य आयोग का सदस्य भी रह चुका है। इसे मुठभेड़ के दौरान अमेरिकी सेना ने पकड़ा था, जिसके बाद इसे अफगानिस्तान की बगराम जेल में कई साल तक कैद करके रखा गया। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के पहले वह नौ साल तक पाकिस्तान में रहा। इसने पाकिस्तान के पेशावर में स्थित दीर कॉलोनी में मदरसा जुबैरी की भी स्थापना की। इस मदरसे में अफगान नागरिक और तालिबान लड़ाके धार्मिक शिक्षा ग्रहण करते हैं। इसे पेशावर में तालिबान का एक प्रमुख ठिकाना भी माना जाता है। इस मदरसे के जरिए पूरे पाकिस्तान और विदेशों से तालिबान के लिए चंदा वसूला जाता है। इसमें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई भी मदद करती है।

आईएसआईएस के खिलाफ काफी मुखर था रहीमुल्ला
हक्कानी सलाफी और इस्लामिक स्टेट से संबद्ध विचारधारा के खिलाफ काफी मुखर रहा। माना जाता है कि इसी कारण वह अपने विरोधियों के निशाने पर आ गया। शेख रहीमुल्लाह हक्कानी ने मदरसे की आड़ में अपना फेसबुक और यूट्यूब चौनल भी शुरू किया। अफगान मौलवी को अफगानिस्तान और पाकिस्तान में लोकप्रियता हासिल है। फ़ेसबुक पेज और यूट्यूब चौनल में हदीस साहित्य और देवबंदी और हनफ़ी विचारधारा से जुड़े धार्मिक मुद्दों पर बोलने वाले अफगान मौलवी के कई वीडियो हैं।

तालिबान के लिए कितना बड़ा झटका
शेख रहीमुल्ला हक्कानी की हत्या हक्कानी नेटवर्क के लिए सबसे बड़ा झटका माना जा रहा है। रहीमुल्ला हक्कानी नेटवर्क का वैचारिक चेहरा था। वह अफगानिस्तान समेत पूरे अरब मुल्कों में हक्कानी नेटवर्क का प्रतिनिधित्व करता था। ऐसे में सिराजुद्दीन हक्कानी के गृहमंत्री रहते राजधानी काबुल में हुई इस हत्या ने तालिबान की इस्लामिक अमीरात सरकार को हिला दिया है। यह हमला बताता है कि काबुल में भी तालिबान की पकड़ ढीली पड़ती जा रही है। तालिबान इन दिनों अपनी सरकार को मान्यता दिलवाने के प्रयास में जुटा है। जिसमें रहीमुल्ला की भूमिका काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही थी। दूसरा, तालिबान को विदेशों और पाकिस्तान से मिलने वाली फंडिंग पर भी इस आतंकी की मौत का असर पड़ सकता है।

RELATED ARTICLES

महारानी के निधन पर ऑस्ट्रेलिया में सार्वजनिक अवकाश

कैनबरा। आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज ने ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की याद में 22 सितंबर को राष्ट्रीय शोक घोषित किया है। अल्बानीज़...

नए एफ-35 लड़ाकू विमान पर अमेरिका ने लगाई रोक, इंजन पार्ट में लगा था ‘मेड इन चाइना’ मेटल

वॉशिंगटन। अमेरिका ने नए एफ-35 लड़ाकू विमान लेने से मना कर दिया है। यह इसलिए क्योंकि इसके इंजन पार्ट में चाइनिज मटेरियल का इस्तेमाल...

बाइडन ने भारतीय-अमेरिकी वकील अरुण सुब्रमण्यन को न्यूयार्क के डिस्ट्रिक्ट न्यायाधीश के तौर पर किया नामित

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने भारतीय-अमेरिकी वकील अरुण सुब्रमण्यन को न्यूयार्क के सदर्न डिस्ट्रिक्ट का न्यायाधीश नामित किया है। इस संबंध में बीते...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

खुशखबरी : धामी सरकार दिवाली पर देने जा रही है 1 लाख 20 हजार कर्मचारियों को बोनस का तोहफा, चार प्रतिशत डीए की...

देहरादून। राज्य के सरकारी कर्मचारियों को दिवाली बोनस का तोहफा मिलने वाला है। प्रदेश सरकार ने दीपावली का बोनस देने की तैयारियां शुरू कर...

लक्ष्मणझूला थाना क्षेत्र के कुनाऊं गांव में अंतरराष्ट्रीय साइबर ठग गिरोह ने असम के तीन लोगों को 24 दिन तक बनाए रखा बंधक, जानिए...

ऋषिकेश। लक्ष्मणझूला थाना क्षेत्र के कुनाऊं गांव में अंतरराष्ट्रीय साइबर ठग गिरोह ने असम से नौकरी के लिए आए दो युवक और एक युवती...

हिमस्खलन और बस हादसे में जान गंवाने वाले लोगों को राज्यसभा सासंद नरेश बंसल ने दी श्रद्धांजलि, कहा सरकार दुःख की इस घड़ी में...

देहरादून। सासंद राज्यसभा उत्तराखंड नरेश बंसल ने कहा कि उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्र के द्रौपदी का डांडा पर्वत चोटी में हिमस्खलन होने के कारण...

उत्तराखंड में जनहित से जुड़ी चार बड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए सुप्रीम जंग की तैयारी में धामी सरकार

देहरादून। चार बड़ी चुनौतियों से घिरी प्रदेश की धामी सरकार अब निर्णायक जंग लड़ने जा रही है। इन चार चुनौतियों में महिलाओं और राज्य...

गौ भक्तों के नाम पर ढिंढोरा पीटने वालों को शादाब अली से सीखनी चाहिए सच्ची गौ भक्ति

देहरादून। भारतीय गौ रक्षा वाहिनी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं उत्तराखंड प्रभारी शादाब अली की निस्वार्थ गौ सेवा का हर कोई मुरीद...

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आयोजित की गई राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण, उत्तराखण्ड की द्वितीय शासकीय सभा की बैठक

देहरादून । मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु की अध्यक्षता में सचिवालय में राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण, उत्तराखण्ड की द्वितीय शासकीय सभा की बैठक आयोजित हुयी।...

मंगल रहा अमंगल : हादसों के बाद फुल एक्शन मोड में दिखे सीएम धामी, पल-पल का अपडेट ले गुजारी रात , सुबह घटना स्थल...

देहरादून । उत्तराखंड एक पर्वतीय राज्य है। यहां प्राकृतिक आपदाओं को आने से रोका नहीं जा सकता लेकिन आपदा या हादसे के बाद तत्परता...

विजयदशमी के पावन पर्व पर तय हुई शीतकाल के लिए चारों धामों के कपाट बंद होने की तिथि, जानिए किस दिन होंगे कपाट बंद

देहरादून। विजयदशमी के पावन पर्व पर शीतकाल के गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बदरीनाथ धाम के कपाट बंद करने की तिथि घोषित की गई। अन्नकूट...

ऑस्ट्रेलिया के केंद्रीय बैंक ने लगातार छठी बार बढ़ाई ब्याज दर

कैनबरा। ऑस्ट्रेलिया के केंद्रीय बैंक ने मंगलवार को अपनी मानक ब्याज दर में लगातार छठे महीने वृद्धि की जिससे यह नौ महीनों के उच्च...

हिमस्खलन के बाद जिंदा बचने वालों ने बयां किया उस दिन का आंखों देखा मंजर, बोले- दो मिनट में दफन हुई उम्मीदें

उत्तरकाशी। समुद्रतल से 18600 फीट ऊंचाई पर स्थित द्रौपदी का डांडा (डीकेडी) चोटी के आरोहण के दौरान जब हिमस्खलन हुआ, पर्वतारोही प्रशिक्षुओं का दल चोटी...