Sunday, May 29, 2022
Home अंतर्राष्ट्रीय नासा के वैज्ञानिकों ने कर दिखाया, चांद से लाई गई मिट्टी में...

नासा के वैज्ञानिकों ने कर दिखाया, चांद से लाई गई मिट्टी में उगाया पौधा

न्यूयॉर्क। वैज्ञानिकों ने पहली बार चांद से लाई मिट्टी में पौधे उगाने में कामयाबी हासिल की है। कम्युनिकेशंस बायोलॉजी नामक पत्रिका में छपे एक शोध में बताया गया है कि अपोलो अभियान के दौरान अंतरिक्ष यात्री जो मिट्टी लाए थे, उसमें पौधे उगाने में सफलता मिली है। चांद से ये मिट्टी कुछ समय पहले नासा के अपोलो अंतरिक्ष यात्री अपने साथ लेकर आए थे। अब माना जा रहा है कि वैज्ञानिकों का अगला लक्ष्य चांद पर पौधा उगाना होगा।

पहली बार वैज्ञानिकों ने नासा के अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा एकत्र किए गए चंद्रमा से मिट्टी में पौधे उगाए गए हैं। हालांकि शुरुआत में शोधकर्ताओं को यह मालूम नहीं था कि ठोस चंद्रमा की मिट्टी में कुछ भी उगेगा या नहीं और वे यह देखना चाहता था कि चांद पर खोजकर्ताओं की अगली पीढ़ी द्वारा इसका उपयोग किया जा सकता है या नहीं। हालांकि इन नतीजों ने उन्हें चौंका दिया।
फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी के खाद्य और कृषि विज्ञान संस्थान के रॉबर्ट फेरल ने कहा, पौधे वास्तव में चंद्र के सामान पर उगे हैं। क्या आप मेरे साथ मजाक कर रहे हैं? फेरल और उनके सहयोगियों ने अपोलो 11 के नील आर्मस्ट्रांग और बज एल्ड्रिन और अन्य मूनवॉकर्स द्वारा लाई गई चांद की मिट्टी में अरबिडोप्सिस का बीज लगाया। इसमें सारे बीज अंकुरित हो गए।
फेरल ने आगे कहा, ‘अपोलो चंद्र रेजोलिथ में उगाए गए पौधे ट्रांसक्रिप्टोम पेश करते हैं, जो चांद को लेकर किए जा रहे तमाम रिसर्च को एक नई सकारात्म दिशा दे रहे हैं। इससे साबित होता है कि पौधे चांद की मिट्टी में सफलतापूर्वक अंकुरित और विकसित हो सकते हैं।’

चांद की मिट्टी को लूनर रेजोलिथ कहा जाता है, जो पृथ्वी पर पाई जाने वाली मिट्टी से मौलिक रूप से अलग होता है। अपोलो 11, 12 और 17 मिशनों के दौरान चांद से मिट्टी लाई गई थी, जिनमें ये पौधे लगाए गए थे।
नकारात्मक पक्ष यह रहा कि पहले हफ्ते के बाद, चांद की मिट्टी की खुरदुरापन और अन्य तत्वों ने छोटे, फूलों वाले खरपतवारों पर इतना जोर दिया कि वे धरती से नकली चंद्रमा की मिट्टी में लगाए गए पौधों की तुलना में अधिक धीरे-धीरे बढ़े। ज्यादातर चंद्रमा के पौधे खत्म हो गए। परिणाम कम्युनिकेशन बॉयोलॉजी में गुरुवार को प्रकाशित किए गए थे।
अपोलो के छह कर्मचारियों द्वारा सिर्फ 842 पाउंड (382 किलोग्राम) चंद्रमा की चट्टानें और मिट्टी वापस लाई गई थी। चांद से लौटने के बाद ह्यूस्टन में अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों के साथ क्वारंटाइन के तहत पौधों पर सबसे पहले चंद्रमा की धूल छिडक़ी गई थी।
अधिकांश चंद्र छिद्र बंद ही रहे, जिससे शोधकर्ताओं को पृथ्वी पर ज्वालामुखीय राख से बनी नकली मिट्टी के साथ प्रयोग करने के लिए मजबूर होना पड़ा। नासा ने आखिरकार पिछले साल की शुरुआत में फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं को 12 ग्राम दिया, और लंबे समय से प्रतीक्षित रोपण पिछले मई में एक प्रयोगशाला में हुआ।
नासा ने कहा कि इस तरह के प्रयोग का समय आखिरकार सही था, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी कुछ वर्षों में अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा पर वापस लाना चाहती है।फ्लोरिडा के वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि वे इस साल के अंत में चांद से लाई मिट्टी को रीसायकल करेंगे, संभवत: अन्य वनस्पतियों पर जाने से पहले अधिक थाले क्रेस का रोपण करेंगे।

RELATED ARTICLES

रूस से भारत की तेल खरीद ने तोड़ा रिकॉर्ड

मॉस्को। यूक्रेन पर हमले के बाद पश्चिमी देशों ने रूस पर बड़ी संख्या में आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए हैं। इसके चलते आर्थिक समीकरण तेजी...

कराची में छिपकर बैठा है दाऊद इब्राहिम, भगोड़े के भांजे ने ईडी के सामने कबूली बात

कराची। भारत का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम इस समय कराची में है। इस बात का खुलासा उसके भांजे अलीशाह पारकर ने प्रवर्तन निदेशालय...

राष्ट्रपति पुतिन का दावा- पश्चिमी देशों की ओर से हो रहे हैं साइबर हमले

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि यूक्रेन पर सैन्य कार्रवाई के मद्देनजर उनके देश को पश्चिम की ओर से साइबर हमलों का...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यूक्रेन की मदद करने के बजाय स्कूल सुरक्षा फंडिंग को प्राथमिकता दे अमेरिका : ट्रंप

ह्यूस्टन। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वाशिंगटन सरकार को युद्धग्रस्त यूक्रेन को सहायता भेजने के बजाय देश के स्कूल सुरक्षा...

राजस्थान 14 साल बाद आईपीएल के फ़ाइनल में

अहमदाबाद।  तेज गेंदबाजों प्रसिद्ध कृष्णा (22 रन पर तीन विकेट) और ओबेद मकॉए (23 रन पर तीन विकेट) की शानदार गेंदबाजी और जबरदस्त फॉर्म...

रोजाना रात को सोने से पहले करें ये ब्रीथिंग एक्सरसाइज, आएगी बेहतर नींद

नींद हमारे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि चैन की नींद सोने से शरीर तरोताजा महसूस करता है और इससे कई अन्य स्वास्थ्य लाभ...

जीना जरूरी है गाना देखने के बाद फैंस के आंसू छलक पड़े, कहते हैं वी मिस यू सिद्धार्थ!

एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री एक साल पहले आई चुनौतियों से उबर रही है। संगीत का कारोबार भी लंबा खिंच रहा है। इस समय के दौरान, रोमांटिक...

उत्तर प्रदेश के सम्यक विकास और आत्मनिर्भरता का बजट

सियाराम पांडेयशांत उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश कर दिया। गत वर्ष यह बजट 5.5 लाख करोड़...

खटीमा में नहीं होती पुष्कर सिंह धामी की हार : सीएम योगी

देहरादून। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव 2022 में खटीमा विधानसभा सीट में चुनावी प्रचार के लिए काश वह...

एमबीबीएस के छात्र ने एम्स की छठी मंजिल से कूदकर दी जान

ऋषिकेश।  एम्स ऋषिकेश में एमबीबीएस के 19 वर्षीय छात्र ने संदिग्ध परिस्थितियों में छात्रों ने मेडिकल भवन की बिल्डिंग से कूदकर आत्महत्या कर ली।...

एक लाख लोग खा रहे थे अवैध रूप से सस्ता राशन

देहरादून। अपात्र को ना-पात्र को हां अभियान के तहत 25 हजार 540 लोगों ने राशन कार्ड सरेंडर हो गए। इन राशन कार्ड पर एक...

सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुष्कर धामी के समर्थन में किया रोड शो

देहरादून। चंपावत विधानसभा उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का प्रचार के लिए शनिवार को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंच गए हैं। धामी...

बदमाशों ने युवक का किया अपहरण फोन पर मांगी 6 लाख फिरौती

देहरादून।  लक्सर के गढ़ी संघीपुर निवासी युवक का अपहरण हो गया। अपहर्ताओं ने युवक के फोन से उसके परिजनों से बात कर छह लाख...