Sunday, November 27, 2022
Home हेल्थ करते हैं ब्लूटूथ का इस्तेमाल, तब इन बातों का रखे खास ध्यान

करते हैं ब्लूटूथ का इस्तेमाल, तब इन बातों का रखे खास ध्यान

ब्लूटूथ उन अहम और मुख्य कनेक्टिविटी विकल्पों में से एक बन गया है जो स्मार्टफोन और कंप्यूटर को कनेक्ट कर सकता है।ब्लूटूथ एक अहम कनेक्टिविटी विकल्प है और यह जानने के बाद, ऑनलाइन हैकर्स धीरे-धीरे ब्लूटूथ कनेक्शन और टारगेट सिस्टम्स को बाधित करने के नए तरीके ढूंढ रहे हैं। हालांकि, इस तरह के अटैक्स का दायरा काफी सीमित है। ऐसा इसलिए क्योंकि ब्लूटूथ पेयरिंग डिफ़ॉल्ट रूप से एन्क्रिप्टेड होती है। लेकिन क्या हो अगर आपके फोन का ब्लूटूथ आपने ऑन तो कर रखा है लेकिन उसका इस्तेमाल न कर रहे हों। वैसे तो हमेशा यह सलाह दी जाती है कि जब आपके फोन का ब्लूटूथ उपयोग में न हो तो उसे बंद करके रखें। इसे लेकर एक अध्ययन किया गया है, जिसमें ब्लूटूथ को बिना इस्तेमाल ऑन न रखने के अभ्यास का महत्व बताया गया है। इस अध्ययन में एक नए तरीके का उल्लेख किया गया है जिसमें आपके फोन की लोकेशन को ट्रैक करने के लिए ब्लूटूथ ट्रांसमिशन का उपयोग किया जा सकता है। हैरान हो गए न ये जानकार, लेकिन यह सच है।

यह सोचने वाली बात है कि ब्लूटूथ को किसी डिवाइस की लोकेशन से कैसे जोड़ा जा सकता है? तब चलिए जानते हैं वैज्ञानिक बताते हैं कि वास्तव में ऐसा करने का एक तरीका है और हैकर्स द्वारा इस तरीके का इस्तेमाल किया जाता है तो यह तरीका बहुत खतरनाक हो सकता है। ओरिजनल डिवाइस को ट्रैक करने के लिए ब्लूटूथ का उपयोग कैसे किया जाता है इसके लिए वैज्ञानिकों ने ब्लूटूथ तकनीक के एक विशिष्ट पहलू पर ध्यान केंद्रित किया। यह ब्लूटूथ लो एनर्जी या बीएलई कहा जाता है। बीएलई, ब्लूटूथ का लो एनर्जी फॉर्मेट है जो तुलनात्मकरूप से कम पावर खपत करता है। हालांकि, यह बैंडविड्थ और रेंज से कॉम्प्रोमाइज करके ऐसा करता है।

बिजली की कम खपत के चलते, कई बार 99 प्रतिशत तक बीएलई, डिवाइस के ब्लूटूथ के ऑन रहने तक लगातार सिग्नल संचारित कर सकता है।इसकारण जब वैज्ञानिकों को पता चला कि सिग्नल का एक कॉन्सटैंट सोर्स है जिस पर वे टैप कर सकते हैं, तो केवल एक चीज बचती है और वो है व्यक्तिगत रूप से इन संकेतो के पहचानना। रिसर्चर्स ने तब अलग-अलग डिवाइसेज की पहचान करने पर फोकस किया। हर फोन के सिग्नल में खामियां लगभग बेहद यूनिक पाई गईं। इन भिन्नताओं को अलग करते हुए, शोधकर्ता हर फोन को बेहद ही सटीकता के साथ पहचानने में सक्षम रहे। रिसर्च के अनुसार, यह पहली बार एंड्रॉइड पुलिस द्वारा देखा गया है। तकनीक के परिणामस्वरूप फॉल्स पॉजिटिव रेट और फॉल्स नेगेटिव रेट 5 फीसद से नीच रहे।

इस रिसर्च का मतलब या सार यह है कि अगर ब्लूटूथ को ऑन रखते हैं,तब आपके फोन के ब्लूटूथ का उपयोग आपको ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है। हालांकि, इस प्रकार के लोकेशन ट्रैकिंग की बहुत अधिक सीमाएं हैं। सबसे पहले, इस सिस्टम को आपके पास और एक स्टेबल वातावरण में काम करना होगा। क्योंकि कई कारकों के परिणामस्वरूप रिकॉर्डिंग में गड़बड़ी होने की संभावना बनी रहती है या गड़बड़ी हो सकती है। इसके अलावा, इन बीएलई सिग्नल्स में खामियां हमेशा यनिक नहीं होता हैं। इसका मतलब यह है कि कुछ डिवाइस हैं जो एक जैसे सिग्नल उत्पन्न कर सकते हैं और इसलिए व्यक्तिगत रूप से पहचाना नहीं जा सकता है। भले ही, इस रिसर्च ने हैकर्स के प्लान को खोल दिया है कि वहां इस तरह से यूजर्स की लोकेश का पता लगाते हैं।

RELATED ARTICLES

ज्यादा पानी पीने से हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां, बचने के लिए करें ये काम

कहते हैं पानी सबकी सेहत के लिए जरुरी है, हालाँकि अधिक पानी पीना सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। आपको बता दें कि...

सर्दियों में डिहाइड्रेशन से दूर रखने में मदद करेंगे ये 5 पेय, जरूर करें इनका सेवन

सर्दियां आते ही लोग पानी का सेवन करना कम कर देते हैं। उनका मानना होता है कि जितना पानी पीएंगे, उतनी बार कंबल से...

टेनिस एल्बो क्या है, जाने इसके लक्षण और उपचार

टेनिस एल्बो कोहनी में होने वाले दर्द का एक प्रकार है। यह एक दर्दनाक स्थिति होती है जो कोहनी के अत्यधिक इस्तेमाल के कारण...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

गौचर व चिन्यालीसौड़ के लिए जल्द शुरू होगी हवाई सेवा

उड़ान योजना के अगले टेंडर में शामिल की जाएगी गौचर व चिन्यालीसौङ की हवाई सेवा पिथौरागढ़ से फिक्सड विंग एयरक्राफ्ट सेवाएं शुरू करने के लिए...

हिमाचल के बाद दिल्ली निकाय चुनावों में भी धामी-धामी

-मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में हुई जनसभाओं को सुनने को उमड़ रही भीड़ दिल्ली/देहरादून हिमाचल विधानसभा चुनाव की तरह ही दिल्ली...

बढ़ते तापमान और रेता कंकड़ की वजह से तेजी से बदल रहा है हिमालय के ग्लेशियरों का आकार

देहरादून। बढ़ते तापमान और रेता कंकड़ की वजह से हिमालय के ग्लेशियरों का आकार तेजी से बदल रहा है। ग्लेशियर बर्फ का द्रव्यमान भी खो...

उत्तराखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से होगा शुरू

देहरादून। विधानसभा के 29 नवंबर से प्रारंभ हो रहे शीतकालीन सत्र के दौरान सदन के भीतर और बाहर हंगामा होना तय है। वनंतरा रिसॉर्ट की...

सरकार शिक्षा के साथ खेलों में भी विद्यार्थियों को जोड़ने का कर रही प्रयास-रेखा आर्या

`खेलों में भी हैं बेहतर भविष्य की संभावनाएं-रेखा आर्या खेल मंत्री रेखा आर्या ने किया जिला स्तरीय खेल महाकुंभ का शुभारंभ खिलाड़ियों और खेल के प्रति...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मन की बात कार्यक्रम हम सभी को प्रेरणा देता है: CM धामी

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना। मन की बात कार्यक्रम...

फीफा में जीत का जश्न, 20 लाख रुपए की शराब पी गईं 3 दिग्गज खिलाडिय़ों की पत्नियां

दोहा। इस समय यहां एक तरफ हर जगह फीफा वर्ल्ड कप का खुमार लोगों के सिर चढक़र बोल रहा है, वहीं दूसरी तरफ 3 दिग्गज...

जोमेटो एप्प अब हिंदी में भी होगा उपलब्ध

नई दिल्ली। ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म जोमेटो ने घोषणा की है कि वह अब हिंदी और बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, पंजाबी, मराठी, तमिल और...

ज्यादा पानी पीने से हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां, बचने के लिए करें ये काम

कहते हैं पानी सबकी सेहत के लिए जरुरी है, हालाँकि अधिक पानी पीना सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। आपको बता दें कि...

अभिनेत्री ऋचा चड्ढा इंडो-ब्रिटिश प्रोजेक्ट में आएंगी नजर, खुद किया खुलासा

अभिनेत्री ऋचा चड्ढा ने हाल में अपने लॉन्ग टाइम बॉयफ्रेंड और अभिनेता अली फजल से निकाह किया है। दोनों की शादी की खबरों ने...