आज पुष्कर सिंह धामी ने थामी देवभूमि की डोर! इन 11 मंत्रियों के साथ ली 11 वें मुख्यमंत्री की शपथ

देहरादून से शगुफता परवीन की रिपोर्ट:  देवभूमि को आज बागियों की नाराजगी से देहरादून से दिल्ली तक सुर्ख़ियों मेंजुड़ी सुगबुगाहट के बीच एक और मुख्यमंत्री के रूप में पहली बार युवा चेहरा मिल गया है। राज्य के उधमसिंहनगर जनपद में सीमांत नामक विधानसभा क्षेत्र से विधायक पुष्कर सिंह धामी ने आज मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण कर ली।

उत्तराखंड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री यानी पुष्कर सिंह धामी द्वारा आज राज्य के 11वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली गई। इस दौरान उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में स्थित राजभवन परिसर में शपथ ग्रहण कार्यक्रम की शुरुआत की गई।

इस दौरान उनके साथ मंत्रिमंडल के कई नेताओं ने भी शपथ ली. जिनमेंं बिशन सिंह चुफाल, अरविंद पांडे, रेखा आर्य, धन सिंह रावत, गणेश जोशी, बंशीधर भगत, सतपाल महाराज, सुबोध उनियाल हरक सिंह रावत शामिल रहे. पुष्कर सिंह धामी ने पूर्ववर्ती मंत्रिमंडल में कोई फेरबदल नहीं किया है.

शपथ ग्रहण समारोह में प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम, धन सिंह रावत प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, त्रिवेंद्र सिंह रावत राज्य सभा सांसद नरेश बंसल, लोकसभा सांसद अजय टम्टा, अजय भट्ट, यशपाल आर्य, सुबोध उनियाल, स्वामी यतीश्वरानंद, रेखा आर्य, बंशीधर भगत, पूर्व सांसद बलराज पासी, प्रेमचंद अग्रवाल, ऋषिकेश मेयर अनीता मंमगाई मौजूद रहे. इस दौरान सभी नेताओं ने पार्टी में किसी भी तरह की नाराजगी से इनकार किया.

धामी के नाम की घोषणा से पहले मुख्यमंत्री की रेस में दिग्गज नेता सतपाल महाराज, त्रिवेंद्र सिंह रावत, धनसिंह रावत समेत कई बड़े नाम शामिल थे. जिन्हें दरकिनार करते हुए हाईकमान ने धामी पर भरोसा जताया. जिसके बाद उन्होंने आज प्रदेश के 11 वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली.

इसके अलावा सतपाल महाराज समेत हरक सिंह रावत, बंशीधर भगत, यशपाल आर्य, बिशन सिंह चुफाल, सुबोध उनियाल, अरविंद पांडे, गणेश जोशी, धन सिंह रावत, रेखा आर्य और स्वामी यतिश्वरानंद द्वारा बारी-बारी पुनः गोपनीयता और मंत्री पद की शपथ ग्रहण की गई।

धामी का राजनीतिक सफर

  • 3 मई 2021 को प्रदेश के 11वें मुख्यमंत्री बनी

  • 2017 में दूसरी बार विधायक बने पुष्कर धामी

  • 2013 में भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष बने पुष्कर धामी

  • 2012 में पहली बार विधायक बने पुष्कर धामी

  • 2010-12 तक शहरी अनुश्रवण परिषद उपाध्यक्ष रहे पुष्कर धामी

  • 2005 में भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष रहे पुष्कर धामी

  • 2001 तत्कालीन मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी के ओएसडी भी रहे.

  • 1994-1995 में पुष्कर धामी ने विद्यार्थी परिषद की सदस्यता ली.

यानी पूर्व सीएम तीरथ सिंह रावत के कार्यकाल के मंत्रिपरिषद को रिपीट किया गया है। इससे पहले धामी के विधायक दल का नेता चयनित किए जाने से नाराज विधायकों को मनाने का दौर पूरे दिन भर चलता रहा। इसका असर ये हुआ कि नाराज विधायक शपथ ग्रहण समारोह में पहुंच गए थे। धामी उत्तराखंड के सबसे कम उम्र वाले मुख्यमंत्री बनने का रिकॉर्ड बनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *