Home ब्लॉग उत्तराखण्ड में अंकिता हत्या काण्ड

उत्तराखण्ड में अंकिता हत्या काण्ड

अजय दीक्षित
उन्नीस साल की एक लडक़ी अंकिता की हत्या को लेकर पूरा उत्तराखण्ड आग में उबल रहा है । इस गरीब परिवार की लडक़ी ने एक रिसोर्ट में कुछ दिन पहले ही रिसेप्शनिस्ट की नौकरी शुरू की थी । शायद उस पर कुछ दबाव था, जिसका उसने इंकार कर दिया था तो उसके मालिक ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर नदी में ढकेल दिया और डूबने से उसकी मृत्यु हो गई । बाद में सरकारी प्रयास से तीन दिन बाद उसकी लाश बरामद की गई । रिसोर्ट के मालिक भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी का लडक़ा है । इसी से उत्तराखण्ड की सरकार के ऊपर दबाव था कि तुरन्त कार्यवाही करें । सरकार ने रिसोर्ट पर बुलडोजर चला दिया इससे साक्ष्य मिट गये । लगता है सरकारी महकमा भी भाजपा के दबाव में शुरू में कुछ करना नहीं चाहता था ।  बाद में जनता के दबाव के कारण कार्यवाही करने का ढोंग किया जा रहा है । परन्तु इस घटना से लड़कियों को कुछ सबक लेना चाहिए । किसी के यहॉं नौकरी करने से पहले मालिक के चरित्र व उसकी प्रतिष्ठा के बारे में जॉंच लेना चाहिए । फिर ऐसी जगह नौकरी नहीं करनी चाहिए जो स्थान मुख्य शहर, या मुख्य बाजार से दूर हो। 

जहॉं तक हो सकें अपनी नई नौकरी के स्थान की सूचना पुलिस थाने में दर्ज करा देनी चाहिए । साथ ही समय-समय पर अपने मोबाइल से अपने घरवालों को अपनी लोकेशन के बारे में बता देना चाहिये । जरा सी भी शंका होने पर तुरंत नौकरी के लालच में न पडक़र पुलिस और घर के बुजुर्गों की सलाह पर आगे की कार्यवाही करनी चाहिए ।
असल में लड़कियों के लिए भारत में कोई सुरक्षित स्थान नहीं है । यद्यपि वर्तमान केन्द्रीय सरकार मातृ देवो भव का  मंत्र जपती रहती है ।  भाजपा की राज्य सरकारें भी बहुत कुछ सहृदय नहीं है । मामा कहलाना आसान है । पर मामा का धर्म निभाना बहुत मुश्किल है । हिन्दुओं और मुसलमानों में मामा को भांजी की शादी में बहुत कुछ देना होता है । हिन्दुओं में उसे भात कहते हैं ।

अभी हाल में 22 सितम्बर को रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इण्डिया में भारत के 28 राज्यों और 8 केन्द्र शासित प्रदेशों में सेक्ट-रेडियो (लिंगानुपात) की संख्या घोषित की है ।  लिंगानुपात में प्रति एक हजार जीवित लडक़ों में लड़कियों की संख्या हजार बतलाई जाती है ।  इस घोषणा के अनुसार सन् 2018- 2020 में यह लिंगानुपात 907 है, अर्थात् प्रति 1000 लडक़ों में लड़कियों की संख्या 907 हैं ।

परन्तु कई राज्यों में यह संख्या बहुत कम है ।उत्तराखण्ड में जहॉं अंकिता के मामले को लेकर बवाल मचा हुआ है, वहॉं लिंगानुपात मात्र 844 है अर्थात् 1000 जीवित लडक़ों में लड़कियों की संख्या मात्र 844 है जबकि केरल में यह संख्या 974 है । ग्रामीण उत्तर काशी जिले में यह संख्या 853 है जबकि 2017 में यह संख्या 862 थी अर्थात् नौ प्वाइंट की गिरावट आई है । 2017 से 2022 तक उत्तराखण्ड में भाजपा की ही सरकार थी जो उनकी नाकामी का प्रमाण है ।

देहरादून में आधारित एक स्वयंसेवी संस्था समाधान की निदेशिका रेण्ड का कहना है कि उत्तराखण्ड में लिंगानुपात गिरने का कारण मुख्य थे या महिलाओं का अधिकार विहीन होना है । उनका परिवार की संपदा में कोई अधिकार नहीं है । वे उच्च शिक्षा से वंचित हैं । उनके लिए स्वास्थ्य सुविधाएं पर्याप्त नहीं हैं ।  उन्हें पर्वतीय क्षेत्रों में कठिन जीवन जीना पड़ता है । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री आज कल नायक फिल्म के अनिल कपूर जैसा रोल अदा कर रहे हैं स्पॉट में ही अधिकारियों को निलंबित कर रहे हैं । सरकार चलाने और तुरन्त निर्णय लेने के लिए ऐसा सख्त मुख्यमंत्री ही होना चाहिए ।  परन्तु उत्तराखण्ड में वास्तविक लाभ देने के लिए काफी योजना बनानी पड़ती है उसके लिए समय चाहिए ।  समय तो विपक्ष को कोसने में चला जाता है ।

RELATED ARTICLES

साइबर सुरक्षा में लचर

एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अब हर महीने हजारों साइबर हमले हो रहे हैं। इसे देखते हुए प्राइवेट सेक्टर में साइबर बीमा एक बड़े...

गुजरात चुनाव में भाजपा का चेहरा नरेन्द्र मोदी

अजय दीक्षित पहली दिसम्बर को गुजरात में पहले चरण का मतदान हुआ । उस दिन देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 70 किलोमीटर का एक...

गलत रास्ता, गलत नतीजा

ब्रेग्जिट के हक में वोट करने वाले हर पांच में से एक व्यक्ति को अब लगता है कि उसका फैसला गलत था। तो अब...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

रणबीर की ब्रह्मास्त्र हॉटस्टार पर भारत में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म बनी

रणबीर कपूर और आलिया भट्ट अभिनीत फिल्म ब्रह्मास्त्र की रिलीज को महीनों बीत चुके हैं, लेकिन रिलीज के बाद भी यह लगातार सुर्खियों में...

दिल्ली के दंगल में दिखा धामी का दम, मुख्यमंत्री ने दिल्ली में जिन तीन सीटों पर किया रोड शो, तीनों पर जीते भाजपा उम्मीदवार

-पर्वतीय बाहुल्य वोटर वाली अधिकांश सीटों पर जीते भाजपाई -मुख्यमंत्री धामी को दिल्ली चुनाव में दी गई थी स्टार प्रचारक की जिम्मेदारी देहरादून। दिल्ली नगर निगम...

साइबर सुरक्षा में लचर

एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अब हर महीने हजारों साइबर हमले हो रहे हैं। इसे देखते हुए प्राइवेट सेक्टर में साइबर बीमा एक बड़े...

CM धामी ने विधानसभा क्षेत्र राजपुर के अन्तर्गत विभिन्न विकास योजनाओं का किया शिलान्यास एवं लोकार्पण

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को इन्दिरा मार्केट, देहरादून के निकट विधानसभा क्षेत्र राजपुर के अन्तर्गत विभिन्न विकास योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण...

CM धामी ने डी.आई.टी कॉलेज में आयोजित उच्च शिक्षा चिंतन शिविर के अंतर्गत राज्य स्तरीय नैक प्रत्यायन कार्यशाला एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को डी.आई.टी कॉलेज, देहरादून में आयोजित उच्च शिक्षा चिंतन शिविर के अंतर्गत राज्य स्तरीय नैक प्रत्यायन कार्यशाला...

कल जारी होंगे पुलिस कांस्टेबल भर्ती के एडमिट कार्ड

देहरादून। प्रदेश में पुलिस कांस्टेबल के 1521 पदों पर भर्ती की परीक्षा के लिए उत्तराखंड लोक सेवा आयोग आठ दिसंबर को एडमिट कार्ड जारी करेगा।...

उच्च शिक्षा विभाग में रिटायरमेंट के करीब तो अब नहीं बन सकेंगे निदेशक, जानिए वजह

देहरादून। उच्च शिक्षा विभाग में डॉ. ललित प्रसाद शर्मा मात्र 11 दिन और डॉ. गंगोत्री त्रिपाठी व डॉ. नारायण प्रकाश माहेश्वरी 30-30 दिन के...

24 दिसंबर को होंगे उत्‍तराखंड के डिग्री कॉलेजों में छात्रसंघ चुनाव

देहरादून। राज्य में छात्रसंघ चुनाव 24 दिसंबर को होंगे। कुमाऊं विवि, अल्मोड़ा विवि अन्य विवि के कुलपतियों की कमेटी की बैठक में यह निर्णय...

हिमाचल विधानसभा चुनाव: रिवाज बदलेगा या राज, कड़े मुकाबले के बीच होगा कल फैसला

हिमाचल। हिमाचल प्रदेश विधानसभा के चुनावी नतीजे गुरुवार 8 दिसंबर को आएंगे। इसके लिए भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों की धुकधुकी बढ़ गई है।...

चारधाम यात्रा में हेली सेवाओं के टिकटों की कालाबाजारी रोकने को लेकर CM धामी ने दिए सख्त निर्देश

देहरादून। चारधाम यात्रा में हेली सेवाओं के टिकटों की कालाबाजारी रोकने को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सख्त निर्देश दिए हैं। उन्होंने अधिकारियों को...