Friday, December 2, 2022
Home ख़बर इंडिया कहीं महंगा तो नहीं प्रदेश के लिए यह मुफ्त सौदा..कर्ज के बोझ तले...

कहीं महंगा तो नहीं प्रदेश के लिए यह मुफ्त सौदा..कर्ज के बोझ तले दबा उत्तराखंड

ब्यूरो रिपोर्ट देहरादून: एक ओर जहां उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन के बाद सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सीएम का कार्यभार संभाला, तो वहीं सीएम ने एकाएक फैसले लेने शुरू कर दिए। दरअसल उत्तराखंड में इन दिनों फ्री बिजली एक मुुद्दा बनी हुई है। जिसके चलते देवभूमि में सियासी गलियारों में चर्चाएं जैसे फ्री बिजली को लेकर फिज़ाओं में घूूम रही है। 

उत्तराखंड में इन दिनों हर राजनीतिक दल फ्री का वादा कर जनता को लुभाने में लगा हुआ है। दरअसल उत्तराखंड में नई विकास योजनाओं को शुरू करने से पहले राज्य सरकारों को सौ बार सोचना होता है. प्रदेश की खराब आर्थिक स्थिति इसकी बड़ी वजह है. साल दर साल प्रदेश कर्ज के बोझ तले दबा जा रहा है.

हालांकि इसके बाद भी मौजूदा सरकार जनता को 100 यूनिट फ्री बिजली देने का वादा कर चुकी है. ऐसे में सवाल ये उठता है कि प्रदेश के लिए ये मुफ्त का सौदा कहीं आने वाले दिनों में महंगा तो नहीं पड़ने वाला है. प्रदेश की आर्थिक स्थिति को देखकर लगता तो ऐसा ही है.

दरअसल उत्तराखंड की 1.30 करोड़ जनसंख्या को मुफ्त की योजनाएं देना दलों के लिए तो राजनीतिक रूप से फायदेमंद हो सकता है. लेकिन अर्थशास्त्री राज्य के लिए इसे बड़ा नुकसान मानते हैं. राज्य स्थापना के बाद 3.5 हजार करोड़ का कर्ज बढ़कर अब 50000 करोड़ के कर्ज तक पहुंच गया है. स्थिति यह है कि सरकार लिए गए कर्ज को चुकाने के लिए भी कर्ज ले रही है.

सरकार ने इस महीने 700 करोड़ का कर्ज लिया है, जबकि हर महीने करीब 500 करोड़ का कर्ज राज्य को लेना पड़ रहा है. कोरोना काल में प्रदेश की स्थिति और भी ज्यादा खराब हुई है. उत्तराखंड को कोरोना काल में करीब 4000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान हो चुका है.

हालांकि स्थिति यह है कि प्रदेश की आर्थिक विकास दर शून्य से 4% तक नीचे गिर चुकी है. इन सभी स्थितियों के बीच प्रदेश में सरकार ने लोगों को 100 यूनिट बिजली फ्री और 200 यूनिट बिजली पर 50% तक की सब्सिडी देने का फैसला लिया है.

ऊर्जा विभाग पर फ्री बिजली का क्या होगा असर

ऊर्जा मंत्री हरक सिंह रावत के 100 यूनिट फ्री बिजली से 210 करोड़ का अतिरिक्त भार सरकार पर आएगा. 200 यूनिट तक 50% की सब्सिडी से करीब इतना ही और बोझ बढ़ेगा. यानी करीब 500 करोड़ तक का सालाना वित्तीय बोझ विभाग और सरकार को झेलना होगा. आम आदमी पार्टी की 300 यूनिट फ्री की घोषणा से करीब 800 करोड़ से ज्यादा का सरकार को वित्तीय नुकसान होगा.

हालांकि मौजूदा समय में ऊर्जा विभाग 200 करोड़ के सालाना नुकसान में चल रहा है. यूपीसीएल को मिलने वाली रॉयल्टी का 12.5% खुद यूपीसीएल के ही इस्तेमाल में खर्च हो जाता है, जबकि राज्य सरकार को इस ऊर्जा विभाग ने 900 करोड़ से ज्यादा कभी नहीं दिए हैं.

उत्तराखंड 40000 मेगावाट बिजली उत्पादन करने की क्षमता रखता है. जिसमें से अब तक करीब 4000 मेगावाट का ही उत्पादन किया जा रहा है. अगर राज्य सरकार बिजली उत्पादन में तेजी से बढ़ोतरी करती है तो राज्य के राजस्व में बेहतरी लाने के साथ मुफ्त बिजली देने की स्थिति बन सकती है.

हालांकि अभी 3993 मेगावाट की परियोजनाएं निर्माणाधीन हैं. सबसे बड़ी बात यह है कि अब भी करीब 1000 करोड़ तक का नुकसान बिजली की चोरी के चलते हो रहा है. यानी ऊर्जा विभाग की सबसे बड़ी चुनौती इस वक्त लाइन लॉस को कम करना है.

निगम में बुजुर्गों से लेकर युवाओं और महिलाओं तक के सफर को मुक्त करना निगम के लिए मुश्किल भरा फैसला रहा. इससे करीब 500 करोड़ से ज्यादा का नुकसान परिवहन निगम को हो रहा है. 20 करोड़ से ज्यादा की रकम वेतन और पेंशन भी खर्च हो रही है. उत्तराखंड परिवहन निगम करीब 12 करोड़ रुपये सालाना फ्री की योजना में सरकार से प्रतिपूर्ति लेता है. उधर करीब 50 करोड़ रुपये हिल लॉस के रूप में राज्य सरकार को होता है.

उत्तराखंड सरकार का खजाना इस वक्त पूरी तरह से खाली है. कर्जा भी दिनों दिन बढ़ रहा है. इन हालातों में तमाम निगमों की स्थिति भी खराब प्रबंधन के कारण बेहाल होती रही है. जब बात फ्री योजना की हो तो इसमें उत्तराखंड परिवहन निगम का उदाहरण सबसे जरूरी है. दरअसल, उत्तराखंड परिवहन निगम में खराब प्रबंधन और सरकार की नजरअंदाजगी के अलावा मुफ्त की योजनाओं ने इसका बंटाधार किया है.

राज्यवासियों को मुफ्त की योजनाओं से आकर्षित करने के प्रयास राज्य सरकारें करती रही हैं. हालांकि राजस्व के रूप में इसका भारी नुकसान होता है. राजनीतिक रूप से इसे बड़ा कम माना जाता है. इस पर राज्य सरकार के शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल कहते हैं कि कई बार राजस्व की चिंता किए बिना सरकार को लोगों के हितों में कदम उठाने पड़ते हैं.

राज्य सरकार के शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल कहते हैं कि आर्थिक रूप से भारी दबाव होने के बावजूद भी जनता को प्राथमिकता देते हुए उनकी जरूरतों और मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए मुफ्त की योजनाओं को उन तक पहुंचाना होता है.

वहीं, जानकार कहते हैं कि सरकार लोगों को राहत देने के लिए उनके आर्थिक स्थितियों को देखते हुए योजनाएं बना सकती है. इसमें लोगों के बिलों को कुछ हद तक कम किया जा सकता है, लेकिन सभी लोगों को फ्री बिजली या योजना का लाभ देना राज्य हित में नहीं है. उत्तराखंड में प्रति व्यक्ति आय 202695 है. इससे समझा जा सकता है कि राज्य में बड़ी संख्या में लोग बिजली का बिल देने में सक्षम हैं. ऐसे भी बीपीएल परिवारों को इसमें कुछ राहत दी जा सकती है.

उत्तराखंड का मौजूदा वित्तीय वर्ष में बजट 57000 करोड़ का है. इसमें करीब 30000 करोड़ से ज्यादा का खर्चा कर्मचारियों के वेतन, पेंशन और लिए गए कर्ज के ब्याज में चला जाता है. इस लिहाज से योजनाओं के लिए प्रदेश के पास बजट की भारी कमी रहती है. यही कारण है कि उत्तराखंड सरकार को हमेशा ही मदद के लिए केंद्र से केंद्रीय योजनाओं की ओर देखना पड़ता है. यही नहीं, राज्य को नई योजनाएं बनाने में भी खासी मशक्कत करनी पड़ती है. कई बार अहम योजनाओं का भी बजट की कमी के कारण बंटाधार हो जाता है.

सरकारें जनता के लिए जो भी योजनाओं बनाती है, उसकी वसूली भी जनता से ही की जाती है. इसके लिए तमाम तरह के टैक्स लगाये जाते हैं. इसके अलावा जनता से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से भी पैसा लिया जाता है. टैक्स के अलावा भी सरकार की कमाई के दर्जनों रास्ते हैं. सरकार की जो सेवाएं इस्तेमाल करते हैं उनकी फीस, बिजली, टेलीफोन, गैस जैसे बिल में एक छोटा हिस्सा, तमाम चीजों पर मिलने वाली रॉयल्टी, लाइसेंस फीस, सड़कों, पुलों का टोल टैक्स, वगैरह की फीस से भी सरकार कमाई करती है. जो आप या हम ही भरते हैं.

साल 2019-20 में प्रदेश को 2136 करोड़ का राजस्व घाटा हुआ था. इस दौरान उत्तराखंड में कुल 11513 करोड़ का राजस्व इकट्ठा किया. इस तरह सालाना राजकोषीय घाटा 7657 करोड़ रहा. साल 2020 21 में 3080 करोड़ का राजस्व घाटा हुआ. सालाना राजकोषीय घाटा 10802 करोड़ रहा. वहीं, इस साल करीब 15 हजार करोड़ राजस्व मिलने की उम्मीद है.

RELATED ARTICLES

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने कनिष्ठ सहायक परीक्षा-2022 के अंतर्गत कुल 445 रिक्त पदों पर निकाली भर्ती

हरिद्वार। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने कनिष्ठ सहायक पदों के लिए भर्ती के लिए आवेदन मांगे हैं। आयोग ने विज्ञप्ति जारी करते हुए कनिष्ठ सहायक...

कोहरे को देखते हुए और यात्रियों की सुरक्षा के मद्देनजर रेलवे ने दो ट्रेनों को किया रद्द

देहरादून। कोहरे को देखते हुए और यात्रियों की सुरक्षा को लेकर रेलवे ने दो ट्रेन रद्द करने का निर्णय लिया है। हालांकि, ट्रेंने रद्द होने...

पद्मश्री सम्मानित अंतराष्ट्रीय पर्वतारोही एवरेस्ट विजेता बछेंद्री पाल ने की बेडू उत्पादों और प्रयासों की सराहना

देहरादून। उत्तराखंड के पौड़ी जिले की यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र के बिजनी छोटी में हर्बल उत्पादों का निर्माण कर रहे बेडू ग्रुप ने पद्मश्री से...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने कनिष्ठ सहायक परीक्षा-2022 के अंतर्गत कुल 445 रिक्त पदों पर निकाली भर्ती

हरिद्वार। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने कनिष्ठ सहायक पदों के लिए भर्ती के लिए आवेदन मांगे हैं। आयोग ने विज्ञप्ति जारी करते हुए कनिष्ठ सहायक...

कोहरे को देखते हुए और यात्रियों की सुरक्षा के मद्देनजर रेलवे ने दो ट्रेनों को किया रद्द

देहरादून। कोहरे को देखते हुए और यात्रियों की सुरक्षा को लेकर रेलवे ने दो ट्रेन रद्द करने का निर्णय लिया है। हालांकि, ट्रेंने रद्द होने...

पद्मश्री सम्मानित अंतराष्ट्रीय पर्वतारोही एवरेस्ट विजेता बछेंद्री पाल ने की बेडू उत्पादों और प्रयासों की सराहना

देहरादून। उत्तराखंड के पौड़ी जिले की यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र के बिजनी छोटी में हर्बल उत्पादों का निर्माण कर रहे बेडू ग्रुप ने पद्मश्री से...

ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण के भराड़ीसैंण स्थित विधानसभा भवन में आयोजित होगा विधानसभा का अगला सत्र

देहरादून। विधानसभा का अगला सत्र ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण के भराड़ीसैंण स्थित विधानसभा भवन में आयोजित होगा।बुधवार को सरकार की ओर से संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद...

श्रद्धा हत्याकांड- आरोपी आफताब का नार्को टेस्ट आज डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल में हुआ शुरू

दिल्ली- एनसीआर।  श्रद्धा हत्याकांड में आरोपी आफताब का नार्को टेस्ट रोहिणी स्थित डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल में शुरू हो गया है। कड़ी सुरक्षा में पुलिस...

बीपीसीएल ने सड़क बनाने के लिए 250 टन अपशिष्ट प्लास्टिक को किया रीसाइकल

मुंबई। सरकारी क्षेत्र की ‘महारत्न’ तेल विपणन कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने कहा कि उसने 250 टन प्लास्टिक के कचरे का पुनर्चक्रण...

क्या आपने कभी खाई है जंगली इमली? जानिए इससे मिलने वाले फायदे

जंगली इमली एक ऐसा फल है, जिसका सेवन स्वास्थ्य को कई तरह के लाभ दे सकता है। इसे विलायती इमली और मनीला इमली भी...

आज से भारत को मिल रही जी-20 की मेजबानी, देश के 100 स्मारकों को किया जाएगा रोशन

उत्तर प्रदेश। जी-20 की मेजबानी आज से भारत को मिल रही है। इस मौके पर देश के 100 स्मारकों को रोशन किया जाएगा। इनमें से...

बिग बॉस के घर फिर पहुंचीं राखी सावंत, ली वाइल्ड कार्ड एंट्री

अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाली ड्रामा क्वीन राखी सावंत फिर चर्चा में हैं और इस बार उन्हें सुर्खियों में लेकर...

आज आयोजित होगा एचएनबी गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय का दसवां दीक्षांत समारोह

देहरादून। एचएनबी गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय का दसवां दीक्षांत समारोह आज गुरुवार को आयोजित होगा। समारोह में 328 छात्र-छात्राओं को ऑफलाइन डिग्री वितरित की जाएगी। नीति...