पंजाब के बाद मृत्यु दर में उत्तराखंड देश में दूसरे नंबर पर

ब्यूरो रिपोर्ट देहरादून: उत्तराखंड से कुंभ को लेकर बड़ी ख़बर सामने आई है। जहाँ कुंभ के दौरान कोविड जांच में फर्जीवाड़ा सामने आया। साथ ही कोरोना मरीजों की सबसे अधिक बैकलॉग मौत का खुलासा हरिद्वार जिले में ही हुआ है। जिले के 21 अस्पतालों की ओर से 393 मरीजों की मौत की सूचना कई दिनों के बाद सरकार व स्वास्थ्य विभाग को दी गई।

आपको बता दें कि अभी तक सरकार की ओर से मौतों की समय पर सूचना न देने वाले अस्पतालों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के आधार पर सोशल डेवलपमेंट फॉर कम्युनिटी फाउंडेशन (एसडीसी) ने जिलावार कोविड बैकलॉग मौतों की रिपोर्ट जारी की है।

दरअसल हरिद्वार जिले के 21 अस्पतालों ने 393 कोरोना मरीजों की मौत की सूचना समय पर नहीं दी। कुल बैकलॉग की मौतों में से 70 फीसदी हरिद्वार समेत देहरादून, ऊधमसिंह नगर जिले से हैं। देहरादून जिले में 19 अस्पतालों में 320, ऊधमसिंह नगर जिले में 17 अस्पतालों में 142 मौतें बैकलॉग की हैं। 

हालांकि एसडीसी के अध्यक्ष अनूप नौटियाल का कहना कि स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों पर कोविड बैकलॉग मौतों का विश्लेषण करने पर जिला वार अस्पतालों और मौतों की रिपोर्ट जारी की गई है। कोरोना की पहली लहर में 17 अक्तूबर 2020 को पहली बार 89 बैकलॉग मौतें सामने आई थीं। इसके बाद मई 2021 में 647 और जून में 474 कोविड बैकलॉग मौतों का खुलासा हुआ है। पंजाब के बाद कोविड मृत्यु दर में उत्तराखंड देश में दूसरे नंबर पर है। 

जिलावार बैकलॉग मौतों की संख्या

जिला        अस्पताल      मौतें
हरिद्वार          21            393
देहरादून        19            320
यूएसनगर      17            142
पिथौरागढ़      02             76
नैनीताल        09             67
अल्मोड़ा        04             57
टिहरी           04             42
पौड़ी            03             42
रुदप्रयाग      02             26
चंपावत        04             17
उत्तरकाशी   01            13
बागेश्वर        01            12
चमोली        03            03
कुल          90           1210

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *